Monday, October 27, 2008

दिवाली पर गणितीय रंगोली !

दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें ! गणित की रंगोली और गणित के ही पटाखों के साथ...

पहले कुछ रंगोली:

fractal1 fractal2

fractal3 fractal4

इन खुबसूरत रंगोलियों को किसी कलाकार ने नहीं बनाया है. ये गणित के कुछ फलन हैं जिन्हें कंप्यूटर की मदद से बनाया गया है. इन चित्रों को फ्रैक्टल कहते हैं. ये क्या होते हैं और कैसे बनते हैं... ये जानते हैं दिवाली के बाद. अभी आप इतना ही जानिए ये पूर्ण रूप से गणित के सूत्र ही हैं और कुछ नहीं... ये कैनवास पर बने गई किसी कलाकार की कल्पना नहीं गणितज्ञों के दिमाग की उपज है.

और फिर जाते-जाते एक फ्रैक्टल पटाखा:

fractal

सारे फ्रैक्टल केओसप्रो से बनाए गए हैं.

~Abhishek Ojha~

27 comments:

  1. वाह अभिषेक भाई,
    गणितीय रँगोलियोँ का जवाब नहीँ जी .
    .कैसी मनी देस की दीपावली जी ? :)
    स - स्नेह्,
    - लावण्या

    ReplyDelete
  2. दिवाली बाद हम छुट्टी पर हैं...हा हा!! बच गये.

    आपको एवं आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाऐं.

    ReplyDelete
  3. वाह आपके गणितीय रंगोली का जवाब नही इतनी सुंदर रंगोली तो कमपू देव ही बना सकते है और आपका पटाखा...........******

    ReplyDelete
  4. सुंदर रंगोली | आपको एवं आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाऐं

    ReplyDelete
  5. सभी गणितीय संरचनाएँ अद्बुत हैं। एक दम प्रकृतिजन्य प्रतीत होती हैं। लगता है प्रकृति सदैव ही गणितीय होती है। मनुष्य को उसे जान लेने की सीमा के परे।

    दीपावली पर हार्दिक शुभकामनाएँ। लगता है दीपावली काम पर ही बीत रही है?

    ReplyDelete
  6. jyad 3,5 to nahin karni padi. narayan narayan

    ReplyDelete
  7. .दीवाली की बधाई आपको ..बढ़िया यह यह रंगोली :)

    ReplyDelete
  8. सुन्दर रंगोली!! दीपपर्व पर आपको और आपके परिवार को शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  9. गणित और कंप्यूटर अपने माथे में नही घुसता पर बहुत सुंदर और मनमोहक डिजाईन ! हमने भी सेव कर लिए हैं !

    आपको परिवार व इष्ट मित्रो सहित दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  10. रंगोली तो लाजवाब रही और पटाखे भी।
    आपको दीपावली की हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  11. गजबैगजब!
    हमें भी बनाना बता दीजिये!

    ReplyDelete
  12. दीपावली की हार्दिक मंगलकामनाएं...

    ReplyDelete
  13. आपको तथा आपके परिवार को दीपोत्सव की ढ़ेरों शुभकामनाएं। सब जने सुखी, स्वस्थ, प्रसन्न रहें। यही मंगलकामना है।

    ReplyDelete
  14. ****** परिजनों व सभी इष्ट-मित्रों समेत आपको प्रकाश पर्व दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं। मां लक्ष्‍मी से प्रार्थना होनी चाहिए कि हिन्‍दी पर भी कुछ कृपा करें.. इसकी गुलामी दूर हो.. यह स्‍वाधीन बने, सश‍क्‍त बने.. तब शायद हिन्‍दी चिट्ठे भी आय का माध्‍यम बन सकें.. :) ******

    ReplyDelete
  15. दीपावली पर आप को और आप के परिवार के लिए
    हार्दिक शुभकामनाएँ!
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  16. भाई ओझाजी /अभी तक काव्य का रूप ही देखा था आज कला का भी देखा -बहुत शानदार

    ReplyDelete
  17. bahut sundar rangoli ahishek bhai aapko or aapke sahparivar ko dipavli ke tahe dil se hardik shubhkamnaye!

    ReplyDelete
  18. deepawali ki hardik shubhkamnaye !!

    Fractals ke kuch animations (http://fractalanimation.com/) aapko shayad pasand aaye. :)

    ReplyDelete
  19. aage bataiaye ...aadha bata ke khisak liye..buri baat :-)

    ReplyDelete
  20. excellent! have you seen "Dimensions" the movie
    here's the link -
    http://www.dimensions-math.org/Dim_E.htm

    episode 5 mentions fractal sets first, and episode 6 and 7(not sure) are full of them
    worth a blog post i must say
    complex numbers!!!
    ohh i love to hate them :P :D

    ~$udhi :)
    PS: was it your blog post which mentioned about this film ?? if yes then sorry, my memory sucks!

    ReplyDelete
  21. बहुत ही अच्छी रंगोली

    ReplyDelete
  22. भाई ओझा जी
    गणितीय रंगोली का जो अद्भुत दर्शन आपने हमें अपने ब्लॉग पर कराया , निःसंदेह काबिले-तारीफ है.
    ऐसी मौलिक सोंच जो ऐसे गूढ़ विषय को भी लोगों के लिए रंगोली सा पेश करे , निश्चय ही बधाई और सराहना की पात्र है.
    चन्द्र मोहन गुप्त

    ReplyDelete
  23. खूबसूरत रंगोली..दिल बाग-बाग हो गया !!

    ReplyDelete
  24. गणित को तो हम अपना दुश्मन मानते हैं, इसी बैरी गणित की वजह से हमने इत्ती मार खायी है अपने डेडी से कि क्या बताएं अब तक सर सहला रहे हैं, सोचा था कि चलो छूट गया तो लाखों पाये लेकिन आप ने ऐसी रंगों की छटा बिखेरी कि हम हैरान रह गये, अब जिज्ञासा है कि ये कौन से सूत्र हैं जी जो ऐसी छ्टा बिखेरते हैं

    ReplyDelete
  25. सुंदर और रोचक.

    ReplyDelete