Friday, November 28, 2008

ईटो कियोशी

पॉल क्रुगमन के ब्लॉग से पता चला की ईटो कियोशी नही रहे। प्रायिकता सिद्धांत (Probability Theory) और आकस्मिकता (Randomness) पर उनका काम जो ईटो कलन (Ito Calculus) के नाम से जाना जाता है. गणितीय वित्त में बहुत ज्यादा इस्तेमाल होता है। याद है जब पहली बार ईटो लेमा (Ito's Lemma) वित्तीय गणित की कक्षा में सुना था... उसके बाद अगली तीन कक्षाओं तक कुछ हवा नहीं लगी थी। ये कोर्स १० वें सेमेस्टर में किया था मतलब ४ साल तक गणित पढने के बाद भी पहली बार में ये सिद्धांत और इसका इस्तेमाल समझ नहीं आया था। फिर ऐसे नाम इतनी जल्दी कोई कैसे भूल सकता है. अब जब कभी साक्षात्कार लेता हूँ और अगर किसी ने वित्तीय गणित के बारे में पढ़ा हो तो उससे एक बार ईटो लेमा और फेनिमन कक (Feynman Kac) में से एक तो पूछ ही लेता हूँ।

१९१५ में जन्में इस जापानी गणितज्ञ ने पिछले दोनों १० नवम्बर को आखिरी साँस ली। २००६ में पहले गॉस पुरस्कार से सम्मानित इस गणितज्ञ द्बारा विकसित सिद्धांत वित्त के अलावा जीव विज्ञान (Biology) और भौतिकशास्त्र (Physics) में भी उपयोगी साबित हुए हैं। पिछले महीने ही उन्हें जापानी आर्डर ऑफ़ कल्चर पुरस्कार से नवाजा गया था। वित्त और खासकर डेरिवेटिव ट्रेडिंग में उनके सिद्धांतों के उपयोग के चलते उन्हें 'Most Famous Japanese in WallStreet' की उपाधि से भी जाना जाता है। स्टोकास्टिक डिफ़ेरेन्शियल समीकरणों (Stochastic Differential Equations) पर उनके काम ब्लैक-शोल्स मॉडल (Black Scholes Model) तक पहुचने में मदद करते हैं। अब जो वित्तीय अभियांत्रिकी (Financial Engineering) का नाम भी सुनते हैं वो ब्लैक-शोल्स तो जानते ही हैं।

एमआईटी के प्रोफेसर डैनियल स्ट्रूक ने कहा: 'सबको पता है की ईटो के काम से कई बातो की जानकारी हुई जो पहले अनजान थी।'

श्रद्धांजली इस महान गणितज्ञ को !

--
पाल क्रुगमैन के ब्लॉग पर पढने के बाद सोचा की इस पर कुछ लिखा जाय। कल से पढ़ाई के लिए छुट्टी पर हूँ (हमारी कम्पनी पढने के लिए भी छुट्टी देती है)... और परसों रात से ही टाईम्स नाऊ देख रहा हूँ... मैं तो फिर भी २ घंटे बिजली गई तो ४ घंटे सो गया लेकिन कमांडो बिना सोये लगे हुए हैं... और टाईम्स नाऊ पर अर्नब ! बिना एडवटिज्मेन्ट, कमाल की कवरेज ! टीवी पर न्यूज़ नहीं देखता पर इस बार टीवी बंद करने की इच्छा नहीं हो रही है... दिमाग शून्य हो गया है ! इससे ज्यादा लिखने की क्षमता नहीं.

नरीमन भवन में शायद कार्यवाही ख़त्म हो गई है...

~Abhishek Ojha~

10 comments:

  1. सही कहा.. सिर्फ इंडिया तोड़ो टीवी और न्यूज 24 पर ही एड देखा है इन २ दिनों में..

    ReplyDelete
  2. विकी के लिंक्स पर जा कर महसूस हुआ कि अब हम गणित के "अनपढ़" वर्ग में आ गये हैं।
    ईटो कियोशी को एक मेथमेटिकल इल्लिटरेट की श्रद्धांजलि।

    ReplyDelete
  3. ईटो-कलन को कैसे भूल सकते हैं । ये Graduate school का पहला सबक था कि भावनाओं में बहकर मैथ विभाग के एडवांस्ड कोर्स लेना बन्द करो और केवल एप्लाईड मैथ्स विभाग के कोर्स करो ।

    बाद में जब Random Processes पर एक कोर्स किया था तब ईटो-प्रोसेस और ईटो-कलन कुछ समझ में आये थे । लेकिन अब तो गणित की किताबों पर धूल जम चुकी है । चलिये इसी पोस्ट के बहाने किताब उठाकर कुछ नया पढेंगे ।

    बहुत आभार, इस पोस्ट को लिखने का ।

    ReplyDelete
  4. ईटो कियोशी को गणित के एक नौसिखिए आशिक की श्रद्धांजलि। हम ने उन का नाम आप की इस पोस्ट से ही जाना।
    कुछ कुछ टीवी हम भी देख रहे हैं। पर उतना ही जितनी देऱ लिविंग में होते हैं और सोए नहीं होते। आपरेशन नरीमन हाउस और ऑबेरॉय खत्म हो चुके हैं। ताज अभी शेष है।

    ReplyDelete
  5. बहुत ही रोचक जान कारी दी आप ने, धन्यवाद

    ReplyDelete
  6. आप ने बताया तो हम भी कुछ जान गए, वरना गणित से छत्‍तीस का आंकड़ा है। महान जापानी गणितज्ञ को हमारी भी श्रद्धांजलि।

    ReplyDelete
  7. सब कुछ अबूझ सा लग रहा है। तुम्हारे लिखने का इंतजार है! गणितज्ञ ईटो कियोशी को हमारी श्रद्धांजलि!

    ReplyDelete
  8. आपके विचार बहुत सुंदर है , आप हिन्दी ब्लॉग के माध्यम से समाज को एक नयी दिशा देने का पुनीत कार्य कर रहे हैं ....आपको साधुवाद !
    मैं भी आपके इस ब्लॉग जगत में अपनी नयी उपस्थिति दर्ज करा रही हूँ, आपकी उपस्थिति प्रार्थनीय है मेरे ब्लॉग पर ...!

    ReplyDelete
  9. uuffff...Maths!!!! can't say anything. was a horable issue n subject for me. bt still want to pay my heartly homage to mathamatician.

    ReplyDelete
  10. आपने ज्ञानवर्धक जानकारी दी, ईटो कि‍योशी को मेरी श्रद्धाजंलि‍।

    ReplyDelete